राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में भाग नहीं लेगी कांग्रेस, कहा- बीजेपी और RSS का है इवेंट

Ram Mandir Inauguration: कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भाग नहीं लेंगे।

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में भाग नहीं लेगी कांग्रेस, कहा- बीजेपी और RSS का है इवेंट

Ram Mandir Inauguration:  कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शिरकत को लेकर चल रहे विवाद और बहस पर विराम लग गया है। कांग्रेस पार्टी ने पूरे कार्यक्रम को आरएसएस और बीजेपी का कार्यक्रम बताया है और इससे नाराज हो गई है।

कांग्रेस पार्टी ने स्पष्ट रूप से कहा है कि सोनिया गांधी या कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे इस कार्यक्रम में भाग नहीं लेंगे। इसके अलावा, लोकसभा में विपक्ष के नेता अधीर रंजन भी उपस्थित नहीं होंगे। इन नेताओं ने राम मंदिर की प्रतिष्ठा को देखते हुए निमंत्रण को ठुकरा दिया है।

कांग्रेस ने क्या कहा?

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा, "पिछले महीने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी और लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन का निमंत्रण मिला। करोड़ों भारतीय भगवान राम की पूजा करते हैं। जबकि धर्म व्यक्तिगत बात है, बीजेपी और आरएसएस ने अयोध्या में राम मंदिर को वर्षों से एक राजनीतिक योजना बना दिया है।

बाद में उन्होंने कहा, "स्पष्ट है कि एक अर्द्धनिर्मित मंदिर का उद्घाटन केवल चुनावी लाभ उठाने के लिए किया जा रहा है। 2019 के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को मानते हुए और जनता की आस्था के सम्मान में श्री मल्लिकार्जुन खरगे ने बीजेपी और आरएसएस के इस कार्यक्रम के निमंत्रण को ससम्मान अस्वीकार कर दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सहित छह हजार से अधिक लोग 22 जनवरी को राम मंदिर प्राण समारोह में भाग लेंगे। 

कौन से नेता शामिल नहीं हो रहे?

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खरगे और अधीर रंजन चौधरी के अलावा सूत्रों के हवाले से बताया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समारोह में शामिल नहीं होंगी। 

तृणमूल कांग्रेस (TMC) की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने मंगलवार (9 जनवरी) को आरोप लगाया कि बीजेपी अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन के माध्यम से लोकसभा चुनाव से पहले एक ‘नौटंकी’ कर रही है। मैं धार्मिक आधार पर लोगों को बांटने में विश्वास नहीं रखती।