Quality Control Policy : एक जुलाई से क्वालिटी कंट्रोल नियम लागू होगा तब घरेलू फुटवेयर उद्योगों को काफी बढ़ावा मिलेगा ।

Quality Control Policy | What is Quality Control Policy | New Quality Control Policy 2023 एक जुलाई से क्वालिटी कंट्रोल नियम लागू होगा तब घरेलू फुटवेयर उद्योगों को काफी बढ़ावा मिलेगा । आयात की कमी होने से घरेलू निर्माताओं के उत्पादन में काफी मात्रा में वृद्धि होगी और लाखों नए बेरोजगार व्यक्तियों को नए रोजगार मिलने की संभावना होगी ।

Quality Control Policy : एक जुलाई से क्वालिटी कंट्रोल नियम लागू होगा तब घरेलू फुटवेयर उद्योगों को काफी बढ़ावा मिलेगा ।

Quality Control Policy | What is Quality Control Policy | New Quality Control Policy 2023 

एक जुलाई से क्वालिटी कंट्रोल नियम लागू होगा तब घरेलू फुटवेयर उद्योगों को काफी बढ़ावा मिलेगा ।

आयात की कमी होने से घरेलू निर्माताओं के उत्पादन में काफी मात्रा में वृद्धि होगी और लाखों नए बेरोजगार व्यक्तियों को नए रोजगार मिलने की संभावना होगी । यह नया क्वालिटी कंट्रोल नियम 50 करोड़ से कम का कारोबार करने वाले निर्माताओं के लिए लागू नहीं होगा । आने वाली 1 जुलाई से Quality Control क्वालिटी कंट्रोल के नियम के लागू होने से 70000 करोड़ के घरेलू फुटवेयर उद्योगों को काफी प्रोत्साहन मिलेगा इससे फुटवियर के आयात कम हो जाएगा जिससे कि घरेलू निर्माताओं को अपना उत्पादन कर बढ़ाने का मौका काफी मिलेगा । 


घरेलू निर्माताओं का यह भी कहना है कि Quality Control क्वालिटी कंट्रोल के लागू होने से फुटवियर में गुणवत्ता आने और कच्चे माल का इस्तेमाल भी साथ में होगा ।  जिससे कि उनकी लागत थोड़ी और बढ़ सकती है और उपभोक्ताओं को इस पर बढ़ोतरी का मामूली भार भी सहन करना पड़ सकता है । यह क्वालिटी कंट्रोल नियम सालाना 50 करोड से इसका कम कारोबार है उस पर यह लागू नहीं होगा

दोस्तों यह भी पढ़े :- Public Provident Fund Account : What is PPF Account : पीपीएफ जो कि छोटे निवेशकों के लिए काफी लाभदायक है जाने क्या है पीपीएफ

इस कारण छोटे निर्माताओं की उत्पादन लागत और उनकी बिक्री पर कोई असर नहीं पड़ेगा नियम लागू होने के बाद विदेश में फुटवेयर बनाने वाली बहुत सारी कंपनियां से तभी footware फुटवेयर आयात किया जा सकेगा जब उस कंपनियां ने भारतीय मानक ब्यूरो से सर्टिफिकेशन ले रखा है । फुटवियर निर्माताओं को यह भी चिंता है कि वे अलग-अलग डिजाइन के फुटवियर बनाते रहते हैं और नियम के मुताबिक उन्हें हर डिजाइन के लिए भारतीय मानक ब्यूरो से अलग-अलग सर्टिफिकेशन लेना होगा जो कि एक कठिन कार्य लग रहा है ।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के आगरा में जूते और चप्पलों का बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है । इस नए नियम के लागू होने पर गुणवत्ता में जूते और चप्पलों की कीमत में मामूली से बढ़ोतरी हो सकती है । पूरी तरह से यदि क्वालिटी कंट्रोल का नियम लागू होने के बाद घरेलू निर्माताओं का उत्पादन काफी मात्रा में बढ़ने की संभावना है । इस नए Quality Control Policy क्वालिटी कंट्रोल के नियम के लागू होने के बाद लाखों बेरोजगारों को रोजगार मिलने की काफी संभावना होगी ।

दोस्तों यह भी पढ़े :- What is Green Energy ? : अब उद्योगों की सूरत बदलेगी ग्रीन एनर्जी और साथ में ही होंगे लाखों  नौकरियों के अवसर I