Odisha train accident Highlights : India train crash - रेल हादसा ओडिशा के बालेश्वर में हुए रेल हादसे की जांच अब सीबीआई को सौंप दी गई है  

Odisha train accident Highlights : India train crash - रेल हादसा ओडिशा के बालेश्वर में हुए रेल हादसे की जांच अब सीबीआई को सौंप दी गई है  
Odisha train accident Highlights

रेल हादसा ओडिशा के बालेश्वर में हुए रेल हादसे की जांच अब सीबीआई को सौंप दी गई है  और इस रेल हादसे की जांच अब सीबीआई करेगी यह बात रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रविवार को भुवनेश्वर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए यह घोषणा की थी कि अब इस रेल हादसे की जांच सीबीआई करेगी । इस मामले की जांच अभी तक रेलवे सुरक्षा विभाग पुलिस एवं तकनीकी विभाग की कई टीमें कर रही है । इस मामले में तोड़फोड़ व इंटरलॉकिंग प्रणाली से छेड़छाड़ करने के संकेत मिल रहे हैं । मंत्री ने यह भी कहा है कि इस रेल हादसे में दोषियों की पहचान कर ली गई है ।

रेल अधिकारियों ने कोरोमंडल एक्सप्रेस के चालक को यह भी क्लीनचिट दी है कि उसके पास आगे बढ़ने के लिए हरी झंडी थी और वह निर्धारित गति से सीमा के भीतर ट्रेन चला रहा था इस बीच में लाइन को दुरुस्त कर दिया गया है ‌ । इस रेल हादसे के कई घंटों बाद ट्रैक पर यातायात अब शुरू हो गया है सबसे पहले मालगाड़ी को गुजारा गया था ‌ पिछले तीन दशक के इस सबसे बड़े रेल की हादसे में सबसे पहले 288 लोगों के मरने और 1000 से अधिक लोग घायल होने की बात कही गई थी ।  

बाद में उड़ीसा सरकार ने मृतकों की संख्या रविवार को संशोधित करके 275 कर दी और वहां घायलों की संख्या 1175 बताई है ‌ । इस मामले में रेल मंत्री ने यह भी कहा है कि प्रारंभिक जांच में मिली जानकारियों के अनुसार सीबीआई को जांच सौंपने की सिफारिश की गई है । इस मामले में उन्होंने यह भी कहा है कि यह हादसा इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग और पॉइंट मशीन में किए गए बदलाव के कारण हुआ है।  इस ट्रेन हादसे में घायल हुए मरीजों को हरसंभव उपचार मुहैया करवाया जा रहा है । प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के बाद वैष्णव की सर्वोच्च एजेंसी से जांच कराने की की घोषणा। इस रेल हादसे के 51 घंटे के भीतर ट्रैक पर अब यातायात शुरू हो गया है और वहां सबसे पहले मालगाड़ी को गुजारा गया है । रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव बालेश्वर में रेल हादसे के बाद से लगातार घटनास्थल पर ही बचाव कार्य की निगरानी कर रहे हैं ।  


तीन नहीं चार ट्रेनें हुई थी इस हादसे का शिकार
ट्रेन नंबर 1  

23 डिब्बों वाली शालीमार चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस ऑनलाइन से गुजर रही थी बहानागा बाजार रेलवे स्टेशन से लुप में प्रवेश करने के बाद लोहे अयस्क से भरी मालगाड़ी से टकरा गई ट्रेन की रफ्तार लगभग 128 किलोमीटर प्रति घंटा थी । 


ट्रेन नंबर  2 
अपलाइन पर खड़ी मालगाड़ी भारी होने के कारण मजबूती से खड़ी रही यह ज्यादा पटरी से नहीं उतरी बल्कि खामियाजा पैसेंजर ट्रेन को ही भुगतना पड़ा । 

ट्रेन नंबर 3 

पटरी से उतरी और बिक्री हुई कोरोमंडल ट्रेन के कोच डाउन लाइन पर एक्सप्रेस बेंगलुरु हाडवा की चपेट में आ गए जो कि लगभग 126 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी यह ट्रेन लगभग पार हो चुकी थी पर आखिरी दो डिब्बे टक्कर से क्षतिग्रस्त हो गए।
ट्रेन नंबर 4
डाउनलोड लाइन में खड़ी रेल स्टेशनरी से भरी मालगाड़ी से यशवंतपुर एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त डिब्बे टकरा गए थे ।