New Parliament Building Inauguration : नए संसद भवन के उद्घाटन पर 19 दलों ने किया बहिष्कार ।

New Parliament Building Inauguration : नए संसद भवन के उद्घाटन पर 19 दलों ने किया बहिष्कार । ए संसद भवन के उद्घाटन पर 19 दलों ने किया बहिष्कार । 28 मई को नई संसद का पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन नए संसद भवन के उद्घाटन के लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को नहीं बुलाए जाने का विरोध करते हुए 19 विपक्षी दल कांग्रेस समेत एकजुट होकर इस समारोह का बहिष्कार करने का ऐलान किया है I

New Parliament Building Inauguration : नए संसद भवन के उद्घाटन पर 19 दलों ने किया बहिष्कार ।

New Parliament Building Inauguration : 

नए संसद भवन के उद्घाटन पर 19 दलों ने किया बहिष्कार । 28 मई को नई संसद का पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन नए संसद भवन के उद्घाटन के लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को नहीं बुलाए जाने का विरोध करते हुए 19 विपक्षी दल कांग्रेस समेत एकजुट होकर इस समारोह का बहिष्कार करने का ऐलान किया है । 


विपक्षी दल के नेताओं ने कहा कि जब लोकतंत्र के आत्मा को ही इस संसद से बाहर निकाल दिया गया है, तो हमें इस नई इमारत में कोई मूल्य नहीं दिख रहा है । नए संसद भवन के उद्घाटन पर राष्ट्रपति द्रोपति मुर्मू को इस कदर दरकिनार करते हुए खुद उद्घाटन करने का पीएम का निर्णय यह राष्ट्रपति का गंभीर अपमान वह भारत के लोकतंत्र पर सीधा हमला करने के बराबर है । अन्य विपक्षी दलों ने यह भी आरोप लगाया है कि सरकार ने 28 मई को होने वाले इस नए संसद भवन के उद्घाटन के समारोह में पूरी तरह प्रधानमंत्री को केंद्रित बना डाला है । अन्य विपक्षी दलों ने यह कहा कि हम निरंकुश प्रधानमंत्री और उनकी सरकार के खिलाफ अपनी लड़ाई को जारी रखेंगे ।और यह संदेश हम पूरे भारत में लोगों तक लेकर जाएंगे । 

यह भी पढ़े : -  वजन बढ़ाने के लिए क्या-क्या खाये - How to Gain Weight in Hindi


कांग्रेस व अन्य विपक्षी दलों ने नए संसद के उद्घाटन पर बहिष्कार करते हुए अपने फैसले को जायज मानते हुए साझा बयान संसद की नई इमारत के निर्माण से लेकर उसके उद्घाटन से जुड़े विवाद पर कई बिंदुओं का हवाला देते हुए सरकार को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश कर रही है ।कोविड-19 महामारी के दौरान इस पर खर्च बड़ी रकम की गई है, लोगों या सांसदों से कोई इस बारे में कोई परामर्श नहीं लिया गया है ।

सरकार लोकतंत्र को खतरे में बुरी तरह से डाल रही है हम इस मौके पर मतभेदों को दूर करने के लिए तैयार थे, लेकिन समारोह में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को मैं बुलाने के लिए अनदेखी अस्वीकार्य है । इस संविधान के अनुच्छेद 79 का हवाला देते हुए विपक्षी दलों ने यह भी कहा है कि राष्ट्रपति ने केवल संवैधानिक सत्ता का प्रमुख होता है, बल्कि वह संसद का एक अभिन्न अंग भी होता है ।  इस पर विपक्षी दलों के उद्घाटन समारोह के बहिष्कार के ऐलान के बीच गृहमंत्री अमित शाह ने यह साफ किया है कि नया संसद भवन एक भारत की सांस्कृतिक परंपरा विरासत और सभ्यता को आधुनिकता से जोड़ने का बहुत ही सफल प्रयास किया है I

Read More : Public Provident Fund Account : What is PPF Account : पीपीएफ जो कि छोटे निवेशकों के लिए काफी लाभदायक है जाने क्या है पीपीएफ